दोस्ती में दोस्त ,दोस्त का खुदा होता है
महसूस तब होता है जब वो जुदा होता है … ॥

ना तुम दूर जाना ना हम दूर जायेंगे ,
अपने – अपने हिस्से की दोस्ती निभाएंगे .. ॥

खुशबू की तरह मेरी साँसो में रहना ,
लहू बनके मेरी नस – नस में बहना
दोस्ती होती है रिश्तों का अनमोल गहना ,
इसलिए दोस्त को कभी अलविदा न कहना … ॥

कहीं अंधेरा तो कहीं शाम होगी
मेरी हर खुशी तेरे नाम होगी,
कभी मांग कर तो देख हमसे ए दोस्त ,
होठों पर हंसी और हथेली पर जान होगी … ॥

दोस्ती का वो पुराना पल याद आता है
मेरी आँखों को भर जाता है,
तेरी दोस्ती सदा जिंदा रहे
यही हमारा दिल चाहता है ॥

मेरा नसीब ही कमाल है
जो उपर वाले ने मुझे एक सच्चा दोस्त दिया,
जब भी ए दोस्त तुझे याद किया
तुझे अपने पास पा लिया … ॥

एक चाहत होती है
दोस्तो के साथ जीने की जनाब,
वरना हमें भी पता है
मरना अकेले ही है ॥

चंद लम्हों की जिंदगी है
नफरत से जिया नहीं करते
दुश्मनों से गुजारिश करनी पड़ती है,
क्योंकी दोस्त तो अब याद किया नहीं करते … ॥

ऐ दोस्त अब क्या लिखूँ तेरी तारीफ में ,
बडा खास है तू मेरी जिंदगी में … ॥

वक्त की यारी तो हर कोई करता है मेरे दोस्त
मजा तो तब है …
जब वक्त बदल जाए पर यार ना बदले .. ॥

कौन कहता है की दोस्ती बराबरी वालों में होती है
सच तो यह है की दोस्ती में सब बराबर होता है … ॥

लोग पूछते हैं इतने गम में भी खुश क्यूं हो ,
मैने कहा दुनिया साथ दे ना दे
मेरा दोस्त तो साथ है ॥

new dosti shayari

तुम पत्थर भी मारोगे तो भर लेंगे झोली अपनी ,
क्योंकी हम दोस्तो के तोहफे
ठुकराया नहीं करते … ॥

कुछ तुझ पे उधार है
कुछ मुझ पे उधार है
ये दोस्ती की मीठी यादें
चाय की कर्जदार हैं … ॥

हर नई चीज अच्छी होती है
लेकिन दोस्त पुराने ही अच्छे होते हैं …॥

हाथ थामा जो है तो भरोसा भी रखना ऐ दोस्त
डूब जाएंगे तेरी खातिर मगर
तुझे डूबने नहीं देंगे … ॥

दोस्ती कब किससे हो जाए
अंदाजा नहीं होता
ये वो घर है जिसका कोई दरवाजा नहीं होता … ॥

दोस्ती करना उतना ही आसान है
जितना मिट्टी पर मिट्टी से मिट्टी लिखना
पर …
दोस्ती निभाना उतना ही कठिन है जितना
पानी पर पानी से पानी लिखना … ॥

पैसा तो जीने के लिए होता है
हसने के लिए तो हमेशा
दोस्त की जरूरत पड़ती है … ॥

रिस्तों का नाम भी अजीब है
वो सिर्फ दोस्त है मगर
घर वालों से ज्यादा करीब है … ॥

खुशबू की तरह मेरी साँसो में रहना
लहू बनके मेरी नस नस में बहना
दोस्ती होती है रिश्तो का अनमोल गहना
इसलिए दोस्त को कभी अलविदा न कहना ॥

लोग रूप देखते हैं हम दिल देखते है
लोग सपने देखते हैं हम हकीकत देखते हैं
लोग दुनिया में दोस्त देखते हैं
हम दोस्तों में दुनिया देखते हैं

कहीं अंधेरा तो कहीं शाम होगी
मेरी हर खुशी तेरे नाम होगी
कभी मांग कर तो देख हमसे ए दोस्त
होंठों पर हंसी और हथेली पर जान होगी

हर मोड़ पर मुकाम नहीं होता
दिल के रिश्तों का कोई नाम नहीं होता
चिराग की रोशनी से ढूँढा है आपको
आप जैसा दोस्त मिलना आसान नहीं होता ॥

latest friendship shayari

दिन बीत जाते हैं सुहानी यादें बनकर
बाते रह जाती है कहानी बनकर
पर दोस्त लो हमेशा दिल के करीब रहते हैं
कभी मुस्कान तो कभी आँखो का पानी बनकर ॥

तू दूर है मुझसे और पास भी है
तेरी कमी का एहसास भी है
दोस्त तो हमारे लाखो हैं इस जहाँ में
पर तू प्यारा भी है और खास भी है

सच्ची है दोस्ती मेरी आजमा कर देख लो
करके यकीन मुझ पर मेरे पास आ के देखलो
बदलता नहीं कभी सोना अपना रंग
जितनी बार चाहे आग लगा कर देख लो

ना गाडी ना बुलेट ना ही रखे हथियार
एक है सीने में जिगर और दूसरे जिगरी यार

रिश्तो की यह दुनिया है निराली
सब रिश्तों से प्यारी है दोस्ती तुम्हारी
मंजूर है आँसू भी आँखो में हमारी
अगर आ जाये मुस्कान होठों पे तुम्हारी ॥

खुद पे भरोसा है तो खुदा साथ है
अपनों पे भरोसा है तो दुआ साथ है
जिंदगी से हारना मत ऐ दोस्त
जमाना हो ना हो ये दोस्त तेरे साथ है ॥

दोस्ती तो एक झोका है हवा का
दोस्ती तो एक नाम है वफा का
औरों के लिए चाहे कुछ भी हो
हमारे लिए तो दोस्ती हसीन तीफा है खुदा का

मेरी गुस्ताखियों को माफ करना ऐ दोस्त
मैं तुम्हें तुम्हारी इजाजत के बिना भी याद करता हूँ।

तू दोस्त नहीं तू जान है मेरी
तू भाई नहीं जिंदगी है मेरी

तेरी याद तो बहुत आती है ऐ दोस्त
पर वतन की मोहब्बत में दम जादा है

तू जा पगली अपनी खुशी देख
मेरा क्या है
मैं तो अपने दोस्तों के साथ भी खुश रह लूँगा ॥

जिन्दगी हर पल कुछ खास नही होती
फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती
मिलना हमारी तकदीर में था वरना
इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती ॥

तुम दोस्त बनके ऐसे आए जिन्दगी में
कि हम ये जमाना ही भूल गए
तुम्हें याद आए न आए हमारी कमी
पर हम तो तुम्हें भुलाना ही भूल गए।

best friends shayari

दुश्मनों से मोहब्बत होने लगी है मुझे
जैसे जैसे दोस्तों को अजमाता जा रहा हूँ

दोस्त होकर भी महीनों नहीं मिलता मुझसे
उससे कहना की कभी जख्म लगाने आए

दोस्ती किससे मा थी किससे तुझे प्यार न था
जब बुरे वक्त पे देखा तो कोई यार ना था

हम दोस्त बनकर किसी को रुलाते नहीं
दिल में बसाकर किसी को भुलाते नहीं
हम तो दोस्त के लिए जान भी दे सकते है
और तुम सोचते हो हम दोस्ती निभाते नहीं

हम वो फूल हैं जो रोज रोज नहीं खिलते
यह वो होंठ हैं जो कभी नहीं सिलते हमसे विछड़ोगे तो एहसास होगा तुम्हें
हम वो दोस्त हैं जो दुबारा नहीं मिलते।

जब भी साथ बिताया वक्त याद आता है
मेरी पलकों पर बहते आंसू छोड़ जाता है
कोई और मिल जाए तो हमें न भूल जाना
दोस्ती का रिश्ता जिंदगी भर काम आता है

तुम जो कहती हो की छोड़ दो अपने अवारा दोस्तो को
क्या तुम मेरा जनाजा उठा सकती हो

खुदा ना करे मेरा दोस्त
मुझसे रूठ जाए
हम ऐसे दोस्त नहीं है जो
लोगो की बातों में आकर टूट जाए

दोस्ती वो नहीं होती जो जान देती है
दोस्ती वह नहीं होती जो मुस्कान देती है
उसली दोस्ती वह है
जो पानी में गिरे आँसू को भी पहचान लेती है।

छोटी सी बात पर नाराज मत होना
भूल हो जाए तो माफ कर देना
नाराज तब होना जब रिश्ता तोड देंगे
क्योंकी ऐसा तब होगा जब हम दुनिया छोड देंगे ॥

दोस्त दवा से भी ज्यादा अच्छे होते हैं
क्योंकी अच्छी दोस्ती की कोई
एक्सपायरी डेट नहीं होती

कुछ पल बिताया करो दोस्तों के साथ
हर चीज नहीं मिलती
फेसबुक और इंस्टाग्राम के पास

वक्त की यारी तो हर कोई कर लेता है दोस्त
मजा तो तब है जब वक्त बदल जाए
पर यार ना बदले

दौलत से दोस्त बनें वह दोस्त नहीं
पर सच कहूं तो दोस्त जैसी कोई दौलत नहीं

बेवजह है तभी तो दोस्ती है
वजह होती तो साजिश होती

अपना तो बस एक उसूल है
स्माइल करो दिल से
और दोस्ती निभाओ जिगर से

मुझे यह नहीं पता
मैं एक बेहतरीन दोस्त हूं या नहीं
लेकिन ये मुझे पूरा यकीन है जो मेरा दोस्त है
वह सब बेहतरीन है

हमसे दोस्ती निभाते रहना
हर मोड़ पर आजमाते रहना
लेकिन दूर कभी मत जाना
चाहे सारी उम्र भर सताते रहना ॥

लोग तो प्यार में पागल होते हैं
हम तो दोस्ती में पागल हैं

दोस्ती अधूरी है मोहब्बत के बिना
दोस्ती जिसके पास है वह शख्स अमीर है
शोहरत के बिना

दोस्त के नाम का एक खत
जेब में रखकर क्या चला
करीब से गुजरने वाले पूछते हैं
इत्र का नाम क्या है

दोस्तों से बिछड़ कर
यह हकीकत
खुली
बेशक कमीने थे
पर रौनक उन्हीं से थी

न जाने कौन सी दौलत है
कुछ दोस्तो के लफजों में
बात करते हैं तो
दिल ही खरीद लेते हैं।

याद करते हैं हम यारों की दोस्ती
यादों से दिल भर जाता है
कल साथ जिया करते थे मिलकर
आज मिलने को दिल तरस जाता है

जब मोहब्बत हाथ छोड़ देती है ,
तब दोस्त ही कदम से कदम मिलाकर चलते हैं

हर दुआ मेरी कुबूल हो गयी है
तेरे जैसी दोस्त जो मुझे मिल गयी है

दोस्ती का लम्हा ऐसा होता है,
जो कभी तनहा नहीं रहने देता

हमारी दोस्ती एक दूजे से ही पूरी है
वरना रास्ते के बिना तो मंजिल अधूरी है

जब भी मेरे दोस्त आ जाते है
गम के मेरे आंसू
खुशी में बदल जाते है

दोस्ती अगर दूर भी होती है
तो भी ये कोहिनूर होती है

प्यार में भले ही जुनून है
मगर दोस्ती में सुकून है

जिंदगी में दोस्ती नहीं
दोस्ती में जिंदगी होती है

जैसे जख्म के बिना जिंदगी नहीं
तुम्हारे बिना दोस्त हमारी बंदगी नहीं

दोस्ती भी कमाल की होती है
वजनदार होती है
फिर भी बोझ नहीं लगती

दोस्ती के लिए दिल तोड सकते हैं
पर दिल के लिए दोस्ती नहीं

जब भी मिलते है वो दिल से मिलते हैं
कमीने दोस्त बड़े मुश्किल से मिलते हैं